जरूरी अहवाल

सामान्य

हे ब्लाग  हिंन साईट मां लडा॒ऐ मूहिजी निजी साईट में शाई कयो वयो आहे। महिंजे ब्लाग पडहिंदडनि खे मिंथ थी कजे त हे महर्बानी करे मूहिंजी साईट डा॒हिं मूहिंजा सिंधी देवनागरी में लेख पडहनि। 

मूहिंजी वेब साईट – 

http://rakeshlakhani.in/

अव्हांजो

रोकेश लखाणी 

गांधीधाम, क़च्छ

 

Advertisements

पाकिस्तानी हिंदु – नंढे खंड जो निंधिकणो कौम

सामान्य

पहुतासीं कहिड़े मागि वञी छापुछी कंदें
हां, डिसु त हिन सफर में
लंघियासीं किथां किथां…
सिंध खे कोन छडाए को सघे
सिंधियुनि खां,
सिंधु सिधियुनि में वसे
सिंधु हिते, सिंधु हुते

हे सटयूं महान सिंधी कवि श्री नारायण श्याम पारां हिक ऐडहे वक्त लिखी वयूं हयूं जड॒हिं सिंध जा शहर सिंधी हिंदुनु खां खसया वया ऐं हो पहिंजे ई मूल्क मां जलावंती थी हिंदुस्तान में दर दर जा थाबा॒ खाअण लाई मजबूर हवा। हे सटयूं इन लाई भी अहमियत थयूं रखिनि छा काण त इहे सटयूं कवि जे पहिंजे अजमूदे सां लिखी वयूं हयूं । विरहांङे सिंधी हिंदुनि ऐं खास करे लोहाणनि जे हर तब्के खे पहिंजे जड खां जिंझोरे छडो॒ हो। दिलचस्प गा॒ल्हि त इहा आहे जे ऐडहा विचार, राया न रूगो॒ लेखकनि तोडे कवियूं जा हवा पर आम सिंधी पिणि ऐडहा खुवाब डि॒सिंदे कोन थकबा हवा । विरहांङे जो धकु हिंदु सिंधीयूंनि लाई ऐतिरो जबरदसत हो जे खेनि संभलण जो को भी मोको ऐं न इ को वक्त ई मिलो । इहो हिक वडो॒ सबब हो जहिं जे हलिंदे सिंध जा हिंदु कहिं भी सूरत में सिंध सां पहिंजी वाट छिनर न पई चाहियो।

सिंध मां लड॒पण नसबत हिक दिलचस्प गा॒ल्हि इहा भी आहे जे जेतोणेकि मूसलमान पारां लड॒पण 1954 में निबरी वई पर हिंदुनि लाई इहा अजु॒ भी जारी आहे । जेकरि सिंध मां हिंदुनि जे लड॒पण जी गा॒ल्हि कजे त 1947 खां 1954 ताईं वारी लड॒पण जे भेटि में 1965 खां पोई थिंदड लडपण में ऐडहा जजबात वरली ईं नजर इंदा आहिनि। इहो पिणि धयान में रखजे त जिअं जिअं वक्त गुजरिंदो वयो सिंध मां लडीं॒दडनि जो सिंध सां मोहू घटे न घटे पर हिंदुस्तान सां संदुनि मोहू जरूर वधायो आहे। मूमकिन आहे त पिछाडी जे 65 सालनि खां सिंध में हिदुनि ते थिंदड जूलम सिंधीयूंनि हिंदु तोडे मूसलमाननि सिंधीयूंनि में वड॒यूं विछोटयूं पैदा कयूं आहिनि जेके वक्त बे वक्त घटण बिदरां वधयूं आहिनि।

हिंदुस्तान में सिंधी साहित्य जे पसमंजर में जेकर डि॒सजे त 1947 खां 1954 जी लड॒पण जी भेट में 1965 खां पोई वारी लड॒पण नसबत घटि लिखयो वयो आहे। विरहाङे महल सिंधी लोहाणानि खे  सिंध खे शहरि मे निशाणो बणायो वयो हो जहिं में वडो॒ किरदार हिंदुस्तान मां लडिं॒दड मूसमान निभायो – (मुहाजिरनि तोडे सिंध जा सिंधी मूसलमान सियासतदानि) जेतोणेकि बि॒हिनि जा मकसद भले धार हवा पर निशाणो हिकु ई हो – हिंदु मलकतियूं ऐं हिंदुनि जी खुशाल आबादी।

दिलचस्तप गा॒ल्हि इहा भी आहे त 1954 खां पोई लड॒पण न त महाजिरनि सबब थी ऐं ना हि रूगो॒ सिंधी लोहाणनि जी ई उहा लड॒पण हूई। इहा लड॒पण में वडो॒ किदार सिंध जे सिंधी पीर-मीर-वडे॒रे धाडलयनि जी मदद सां कई जहिंजी मार  सिंध जे हर हिंदु तब्के झेली में पई  छा भील, छा मेघवार, छा सोढा राजपूत या छा लोहाणा। 1965 में लडिंदड में वड॒नि लालनि में कवि हरी दिलगिर तोडे पाकिस्तान  जो नाऐब रेल वजिर श्री लक्षमण सिंह सोढा हवा।  मलतब लोहाणन खां सोढन ताईं, लाडकाणे खां थर परकार ताईं को भी सघेरो हिंदु सोघो कोन हो। जड॒हि ऐडहयूं शख्शतयूं लडे॒ अचण लाई मजबूर थिंदयूं त आम मिसकिन माण्हू जो केडही मजाल जे हो पाकिस्तान में रहण जी हिमथ मेडे सघे।

ऐं थियो भी कजहिं इअं ई – 1971 में डेढ लख हिंदु सिंध जे थर परकार मां लडे॒ राजिस्तान तोडे कच्छ में वसया। हूनिनि खे तहिं महल जी इंदरा गांधी की सरकार पारां जाम दडका डि॒ञा वया। खेनि चयो वेंदो त जेकरि अव्हां मोटी सिंध न वया त अव्हां खे जेलनि में पूणण या वरि हकूमत जे फैसलनि विरूध सबब अव्हां जे ऐतजाज कयो त अव्हां ते गोलयूं लाई हलाऐ सघझिनि थयूं। पर इन जे बादजूद 1971 जी भारत-पाक लडाई महल लडे॒ आयलि हिंदुनि मोटी कोन वया। सिंध मोटी वञण जो खोफ खेनि मोटण कोन डि॒ञो। संदुनि लाई मोटी वञण मूमकिन भी कोन हो। हिंदुस्तान हकूमत नेठि इनहिनि लडे॒ आयलनि खे नागरिकता डि॒ञी जिन मां अधु राजस्थान वसया ऐं बाकि गुजरात जे कच्छ जिले में वसया ।

बहरआल जेसिसाईं गा॒ल्हि कजे 1971 खां पोई जे लड॒पण कंदड हिंदु ऐडहा खूशकिसमत नाहिनि रहया। नागिरकता मिलण ओखी ठाहि वई। लडिंदड हिंदुनि लाई अजाया कानुन में फेरबदल कया वया जहिंजी मार हर लडिं॒दड हिंदु थो पया सठे।

1971 खां पोई लडिं॒दड हिंदुनि जी भारतिय नगरिकता जी लडाई में हिंकु अहम नालो जेको सभिनि खां अगवाटि चपनि ते अचे थो सो आहे सिंमात लोक संघटनि जो। सिमांत लोग संघठनि जो वजूद 1990 धारे सिंध जे थर परकार जिले मां 1971 खां अगु॒ लड॒यलि ऐं पाकिस्तान जे अगो॒णे रेल वजिर श्री लक्षमण सिंह सोढा जे भाईटे हिंदु सिंह सोढा जो अचे थो। 1990 खां अजु॒ ताईं साईं हिंदु सिंह सोढा जी सर्बराही में हजारनि जी तादाद में सिंधी भील, मेघवार, कोली तोडे ब॒यनि जातियूं सां वाटि रखिंदड हिंदु सिंधीयूंनि खे नागरिकता मिली आहे। इन खां सवाई पाकिस्तानी हिंदुनि लाई खास करे हेठउ तबके लाई मसलनि भील मेघवार वगिरहनि लाई पोईते पवलि जातियूं जी सभूत दसतावेज हासिल करण, सिंध मां लडे॒ अचण बैदि ढिघे अर्से जा विजा हासिल करण, जेसिताई नागरिकता का हक जिले जे कलेकटर वट हवा तेसिताईं केपनि जरिऐ नागरिकता डेयारण वगिराह शामिल आहिनि।

इन खां सवाई सिंमात लोक संघठनि वक्त बेवक्त पब्लिक हेअरिंग या आम जलसा पिणि कराईंदी रही आहे जिन में लडे॒ आयलि सिंधीयूंनि खां सवाई  हिंदुस्तानि जूं अहम शख्शतयूं खे भी शामिल कयो वयो आहे जिअं हूनिनि खे भी समझ में अचे त लडे॒ आयलि हिंदुस्तान में भी केतिरे डु॒खनि में आहिनि।

पिछाडी महिने जी 20 जून आलमी पनाहिगिरिन डो॒हाडो (World Refugee Day)  हूअण सबब ऐडही हिक पब्लिक हिअरिंग जो बंदोबस्त कयो वयो हो जिन में शर्कत करण वारनि में समाज सेवक, रातिस्तान बार ऐसेसियशन जा ऐदेदार तोडे राजिस्थान महिला आयोग जी सदर पिणि मोजोद हुई । इन खां सवाई राजस्थान जी हिक समाज सेवी संथा पारां 30-32 खां शागिर्द तोडे शागिर्दयाणू पिणि मोजूद हयूं जिन लडे॒ आयनि हिंदुनि जे सिंध में डुखनि सुरनि जूं कहाणयूं पहिंजे प्राजेकट में शामिल कयूं।

International Refugee Day in Jodhpur

International Refugee Day in Jodhpur

ऐडहयूं पब्लिक हिअरिंग तोडे आम जलसनि में सिंध मां लडे॒ इंद़ड हिंदुनि बाबत इन ड॒स सां काराईंतु थिंदयूं आहिनि छाकाणि त इन जलसनि जरिऐ सिंध लड॒यलि हिंदुनि जूं तकलिफयूं संसदुनि ई जुबानी बु॒धी पई सघजे। जलसे में जेके गा॒ल्हियूं सामहूं आयूं इहो कजहि हिन रित आहिनि ….

क)   राज्सथान जो विजा न मिलण-

इन जलसे में घणनि लडं॒दड हिंदुनि जो इहो इ चवण हो त असीं जथे जे विजा नसबत राजिस्तान जे विजा लाई दर्खासतयूं ड॒यूं पर विजा मिले हरिद्वार जो। हाणे असां नया हिन मूल्क में वरि लड॒ण वक्त डे॒ई वठी इसां वटि रूगो॒ मूशकिल जा थोडा ई पैसा बचिनि। असां खे जा॒णि वाणि छो भिटकायो पयो वञे। असीं गरिब हारीनि वठ ऐतिरो पैसो नाहे जे असीं पहिंजे जोर ते हिंदुस्तान में किथे भी वसी सघयूं। असां जी बिरादरी तोडे मिठ माईट सभ राजिस्तान में, पर असीं उतर हिंदुस्तान में थाबा॒ खाउनि।

ख)   लडिं॒दड हिंदुनि खास करे भील, मेघवार जातियूं जे बा॒रनि जूं पडहायूं विच में ईं बंद थी वञण

इन पब्लिक हेअरिंग में ऐडहा भी वाक्या सामहूं आया जन लाई हिंदुस्तान लडे॒ अचण बैदि संदुनि बा॒रनि जी पड्हाई अध में ई छडजी वई। हिक शागिर्दयाणी जो चवण हो त हिंदुस्तान सरकार पोईते पवजी वयलि जातियूंनि लाई आरकक्षण पई डे॒, कालेज जी फिसनि तोडे उमर जे लिहाज खां रियातु पई डे॒ पर इहे सभ तड॒हि मिलिन जड॒हिं आसां हिंदुस्तान जा नागिक थियूं जहिं में ड॒ह ड॒ह सालनि जो वक्त लगे॒। जेसिताईं असां खे नागरिकता मिले तेसिताईं त असां जो तालिम हासिल करण जो वक्त ई निबरी वञे। असीं छोकरियूं सिंध में अग॒वा थिअण जे ड॒प खां तालिम खां महरूम ऐं हिंद में कानुन असां जो साथ कोन डे॒। असां जा भाउर जी तालिम अध में ही बंद थी वञण सबब मूजूरी कन। असां जी निमाणी मिंथ आहे त असां जूं मजबूरियूं खे समझयो वञे।

ग)    लडिंदड हिंदुनि जूं घुमण फिरण ते पाबंधी

इन आम जलसे में ऐडा काफि लडिं॒दड हिंदुनि जो चवण हो त असां जे लेखे हिंदुस्तान असां जो मूल्क आहे ऐं असां खे जिते वणिंदो असीं उते ई वसी सघिंदासिं पर हित त हालत ई उभितर आहे। असां खे ज॒णु हिक ऐलाईके में कैद कयो वयो आहे। असा खे पहिंजे इलाईके जे 20 कोहि जे दाईरे खां बा॒हर वञण लाई हूकूमत खां मोकल थी वठणि पवे ऐं वडी॒ गा॒ल्हि जेकरि असी इन दाईरे खां बा॒हर इअं बिना  मोकल वञउ त महिनि जा महिना जेलनि जूं सजाउ पईयूं भोगणयूं पवनि। ऐडा मसला हिक अधु न पर काफि हवा जन पहिंजे मिठन माईटनि डा॒हिं ग॒ड॒जण सबब वञि जेलनि में महिनि  जा महिना गुजारा आहिनि। हिक लोहाणो त इन हालत में पैसै जे जोर ते निजात पाऐ थो पर जेकरि गरिब भील मेघवार फाथे थो त उन लाई हिंकडो ई चारो बचे थो त हो हिरासत में वञि सजाउ भोगे॒।

घ)    सिंध में हिंदुनि सां थिंदड कहर

इन जलसे में सिंध, पाकिस्तान मां वेझडाईअ में 171 जी टोलीअ (जिन में भील ऐं मेघवार पिणि हवा) खे लड॒ण में मदद कंदड श्री चेतन दास सिंध में थिंदड जूलमनि जी गा॒ल्हि कई।

श्री चेतन दास बुधायो त अंदरूनी सिंध में किअं हिंदुनि  सां जूलम पयो थिऐ खासि पोइते पवलि हिंदु जातियूंनि सां। हून खास करे उन गाल्हि जो जिक्र कयो त किअं हिंदु सिंधी अग्नि संसकार ताई नथा करे सघिनि, त किअं हो पहिंजी हिंदु रिवायतुनि जे उभतर गुजारे वयलि माईचन जी लाश दफनाईनि, जहिं लाई भी खेनि जमिन लाई भी थाबा॒ था खाअणा पविनि। हून हिक वाक्ये जो भी ड॒सु डि॒ञो त किअं हिक अठ वरहयूं जी नेनंघर जी लाश जमिनि मां कडी॒ बा॒हर फिटो करण की कोशिस कई वई। मतलब हिंदु सां वेर न रूगो॒ हिंदुनि जे जिते जी पयो थिऐ पर इन जे जुजारे वञण खां पोई भी।।।. हून हिंदुनि सां थिंदड वयलनी जा जाम मिसाल डि॒ञा जिअं भील, मेघवार जे बा॒रनि खे किअं मूसलमान मासतर पडहाअण खां बजाऐ स्कूल का काकूस साफ कराअन, किअं हिंदु नेनगरयूं ते अगवाउनि जो खोफ सबब तालिम हासिल कोन करे सघिनि।

असां खां जेकरि विसरी किन वियो आहे त कजहिं महिना अगु॒ टेंडो अलेहार जो रहवासी श्री चेतन दास किअं 171 हिंदु सिंधीयूंनि ( भील ऐं मेघवार) खे पहिंजी अग॒वाणी में हिंदुस्तान लडाअ किअं कामयाब थिया हो। लड॒पण भले इहा लोहाणनि जी हुजे या दलित सिंधीयूंनि जी कड॒हि में सहूली नाहे थी आ। हिंक पासे जड॒हि सिंध में हिंदुनि लाई जमिन रण बणयलि आहे उते बे॒ पासे कहिं भी लातल में हिंदुनि खे लड॒ण खो रोकण लाई भपपूर कोशिस कनि सिंधी मूसलमान।

International Refugee Day in Jodhpur

International Refugee Day in Jodhpur

हिंदुस्तान पाकिस्तान जूं सर्हदयूं 1954 में नेहरू लियाकत समझोते तहत बंद कयूं वयूं। पर 1950 में बंगलादेश वारे हिस्से मां  में हिंदुनि ते कतलेआम इन गा॒ल्हि खे पधिरो करे छडो हो त हिंदुनि जो पाकिस्तानी रियासत में इजत तोडे आबरू महफोज कोन रहिंदी, ऐं थियो भी कजहि इअं। 1954 जे समझोते तहत जेके हिंदु 1950 में बंगलादेश वारे हिस्से मां लडे॒ आया से मोटी कोन वया हातियूं 1971 में हिंदुनि सां बि॒हर ऐं 1950 खां भी वडा॒ जुलम थिया जहिंजी भेट सायदि विरहांङे महल थिअल फसादनि सा भी नथी करे सघजे। बे॒ पासे पाकिस्तान डा॒हिं लियाकत अली खां  जेतिरो  पुगो॒ हून हुन हिंदुस्तान मां मूसलमान (अण बंगाली) कराची लडा॒या, हून तेसताईं लडाया जेसिताईं हून खे इन गा॒ल्हि जी दिलजाई थी त हो हिअर मुहाजिरनि जे सघ ते चूंडयूं विडही थो सघे। पाकिस्तान जा हूमूमती इदारा हिक पासे फसादनि तोडे कानुनि जरिये हिंदुनि खे तंग कयो बे॒ पासे ऐडहा कानुन वजुद में आंदा वया जहिं सबब हिंदु जूं मलकतयूं वणजण गैरकानूनी हो। मतलब हिंदु लडि॒नि ऐं उहो भी हथ वांदनि।

बहरआल इन जलसे में जेतोणेकि कहिं भी नेहरू लियाकत समझोते जी गा॒ल्हि कोन कई पर जनि भी महमानि खे इन जलसे में घुरायो वयो हो सिंध लड॒यलि हिंदुनि जी हालतुनि जी मूंहजुबानी बु॒धण लाई तनि जी भी नाराजगी हिंदुस्तान हूकूमत सां हूई जेसा सभ जा॒णिदे बी माठि करे वेठी आहे।

जेकरि सच पच डि॒सजे त ऐडही गा॒ल्हि नाहे जे हिंदुस्तान जी हकूमत खे पाकिस्तान में हिंदुनि ते थिंदड कहरनि बाब॒त जा॒ण नाहे। हिंदुस्तान जी हूकूमत 1954 (जां खां सर्हदयूं बंद कयूं वयूं) तां खां अजु॒ ताईं हर लडिं॒दड हिंदुअ खे जो विजा रूगो॒ इन ते वधायो त पाकिस्तान में हिंदुनि सां कहर पया थेनि पर इन जे वादजूद नागरिकता जा कोनुनन में नर्मी डे॒अण खां उभतर हाथयूं ओखा कया वया आहिनि। 2005 में नागरिकता डे॒अण जो हकु जिले कलेकटर खां खसे गृर वजिरात पहिंजे हथ कया ऐं नागरिकता मिलण जो वक्त त 5 सालनि खां वधाऐ 7  साल कयूं। सिंध में रहिंदड हिंदुनि जा मिट माईट जेलसमेर, बाडमेर, कच्छ में रहिंनि जिते हूकूमत कहिं खे भी वसण न डे॒, जेसिताईं नागरिकता मिले तेसिताई खेनि हिक शहर जे दाईरे जे 20 कोहि जे दाईरे में ई रहणो पवे। ऐं वडी॒ गा॒ल्हि जेकर जो हली भी वञे त खेनि हिरासत में सजा॒उ डि॒ञयूं वञिनि वरी साल साल नागरितका डे॒अण जी फिस वधाइनि सो धार ड॒चो।

हिंदुस्तान हज लाई सब्सडी थो डे, लखनि जा लख मूसलमानि खे हज ते वनण जी मोकल थो डे॒ पर पाकिस्तान मां हिंदुतानि घुमण अचण लाई हिंदुनि खे विजा डे॒अण में सालनि जा साल थो खणे। आम विजा त लग॒ भग ज॒णु बंद ई कया वया आहिनि या वरि जड॒हि डि॒ञा भी था वनिनि था त उन सां ऐतरियूं पाबंधयूं ग॒ढयूं पयूं वञिनि जे इहे शर्तयूं सिंध जे हिंदुनि जे वस खां बा॒हर आहे।

हिंदुस्तान – पाकिस्तान जो विरहाङो हिंदु मूससलमानि जे विच में थियो हो। कांग्रेसि भले इन जो कजहि भी नालो छो न डे॒ पर हकिकत त इहा आहे जे विरहांङो दीन धर्म के नाले ते थियो। वरि जमिन जो विरहांङो भी हिक जेडहो कोन थितो ज॒हनि त आसाम में तोडे विहार जा मूसलमान इलाईका पाण सा रखी पहिंजी वडी॒ कामयाबी समझी उतेई सिंध जा हिंदु ऐलाईका पाकिस्तान जे हथ कया। आसाम में मूसलमान लाई त का भी तकलिफ कोन थी पर हिंदु दर बदर थी वया। जेकरि विरहांङे जे जमिन जो विरहांङो कांग्रेस कयो त पाकिस्तान मां हिंदुनि खे वसाअण जी बी जिमेवारी  भी उनहिनि जी हूई ।

इन जलसे में पिछाडीअ में मोजोद महिमानि मां भी किन तकरिरयूं कयूं जनि में अहम हूई राजिस्थान बार ऐशोसिऐसन जे सदर जी। श्री श्रीवास्तन पहिंजी तकरिर में चयो पाकिस्तान में हिंदु रही कोन सघींदा – इहा हिक हकिकत आहे सो सिंध लड॒यनि जी लडाईं हिंदुस्तान में आहे जिते साणसि सही रित सहूलतूं नह पई मिलिन। पर इन लडे॒ आयलिनि जो मसलो इहे आहिनि संदनि लडाई कानून जे दाईरे में नथी थी सघे, छा काण त कानून सिंध लड॒यनि हिंदुनि जे हक मे नाहिनि। जेसिताई कोनून में फेर बदल न कई वई त शायदि पाकिस्तानी हिंदुनि जे डु॒ख सुर निबिरिंदा । सो हो त्यारी कन पाण खे वडी॒ लडाईअ लाई ऐं असां खां जेतिरो पुजींदो असी मदद कंदासि। सिंध लड॒यलि पाकिस्तानी हिंदु पाण खे हेकलो न समझिनि असीं साणस ग॒डु॒ आहियूं।

इन जलसे जे पिछाडीअ में सवाल- जबाबनि जो बी आयोजनि हो जिन में लडे॒ आयनि हिंदुनि मोजूद महिमान खां भी सवाल जवाब पुछा। छो त मां बी इन जलसे जे महिमानि मां होसी त मूखां बी हिकु सवाल कयो वयो त साईं असीं सिंध मां लड॒यलि अहियू, असीं भी सिंधी गा॒ल्हियूं (ढाठी इअं भी सिंधी को ई हिक लहजो  आहे) पोई इअं छो जे हिंदुस्तान जा नालेरे वारा सिंधी अग॒वान असां जी मदद त परे असां सा मिलण ताई कोन आया त असी केतरि तकलिफुनि में आहियूं। जड॒हिं अण सिंधी अग॒वाण असां जी सार था लही सघिनि त हिंदुस्तान में वसयलि सिंधी छो माटि आहिनि….

दरअसल मां भी सिंधी लोहाण जे इन वहनवार खे अजु॒ ताईं कोन समघी सघयो आहियां। सिंधी हिक ई इलाके मां लडिण, हिक ई नमूने जा जूल्म सहिनि, हिक बे॒ रित ई लड॒ण जे वाबजूद  पाण में ऐतरियूं विछोटियूं छो….ऐडही केडही मजबूरी आहे जेका असां खे पहिंजनि सां हिकु थेअण खां रोके थी…जातिवाद त हर हिंदु कोम में आहिनि। रातिस्तान में भाल भी रहिनि, त राजपूत भी त माडवाणी वाणिया भी पर जे हो सब राजिस्तानी संसकृति में रङजी था सघिनि त असीं सिंधी सिंधी संसकृति सां छो नथा रङजी सघउं….

हे सवाल हिक भील, मेंघवार या कोल्ली जातीअ लाईं ऐतरो ई अहम आहे जेतरो हिक लोहाणे लाई….शायद असां वटि इन जो जवाबु आहे ई कोन्हि। पर हिक गा॒ल्हि पक आहे त जेकरि असीं इहा गुधी, गजरहात सुलझाऐ वयासिं उहे सभ सियासी तंजमयूं जहिंजा पादर सिंधी अगवान चटिंदा आहिनि से असां सिंधी हिंदु जे दरनि जे चोखट ते मथो टेकण पहिंजी वडे॒ में वडी॒ जिमेवारी समझींदा….

सुन्दरी जो देहांत ऐं हिक आवाज जो अलविदा

सामान्य

कुमारी वेंगस यासमिन सिंधी भाषा जी जदायद अख्बारनुवेसी तोडे कालमनिगरनि में हिंक अहम जाई वालारे थी। संदुसि लेख सिंधी अखबार अबरत में सांदह शाईं थिंदा रहिंदा आहिनि जिन में सिंध तोडे सिंधीयूंनि बाबत संदुनि विचार पेश थिंदा आहिनि। इन खां सवाई अदी अंग्रजी तोडे उर्दू में पिणि में लिखिदी रहि आहिनि।

veengas

 

पेश आहे सिंधी लेखिका सुन्दरी उतमचंदाणी जे लाडा॒णे ते अदी वेंगस पारां लेखिका खे भेठा। इहो लेख अबरत  में अर्बी सिंधी में शाई थिया जेको हिंअर हिंदुस्तान में रहिंदड सिंधीयूंनि लाई देवनागरी सिंधीअ में शाई कजे थो।

“सुन्दरी जो देहांत ऐं हिक आवाज जो अलविदा”

सिंधी लेखिका सुन्दरी उतमचंदाणी

सिंधी लेखिका सुन्दरी उतमचंदाणी

 

जिंदगी अजबु आहे इन जे केतरिन लहरुनि खे समझण ऐं इन ते हलण आसान नाहे । इंसान जेकड॒हिं पहिंजी जिंदगी बाबत लिखण शुरु कनि त दुनिया जे कबट में केतिराई बेहतरिन किताब अची वेंदा जेके इंसान पहिंजे जिंदगी ते ब॒धल थी सघिनि था। पर वरि भी सवाल उभरी पया त छा इंसान इंमानदारी सां कागजनि ते पहिंजयूं कहाणयूं लिखी सघींदा ? या खणी इहो चईजे छा असां ई पडही सघिंदासि ?हिं अर ताईं असां मां केर भी विरहांङे जे तलख कहाणयूं खे पडही कोन सघयो आहे छो जो इंहिनि जे हर हिक कहाणियूं में दर्द, टूटयलि दिलयूं ऐं झरयलि रूह मिलिंदा शायदि इन खे पडहण ऐं लिखण ब॒ई डुखया कमु हूजे। पर जमिर मथां जड॒हिं विगहांङे जी लकिर पाई वई इन वक्त सिर्फ हिक ई जमिनि जे टूकर जो विरहांङो न थि  रहयो पर इन जे बे॒ पासे हजारनि घरनि खे यतिम बणाऐ पहिंजी धर्ती खां बेदखल कयो वयो। बरसगिर में आजादी केडहे रूम में आई…असां सभनि जे झोलियूंनि में टूटल दिंलयूं ऐं झखमि रूह डि॒ञा वया जन जे दर्दनि खामोशी में दुनिया खे अलविदा करे हली वई। सूरमी सुंदरी जहिं जो जन्म हैदराबाद (सिंध) में थियो ऐं हून पहिंजी जिंदगी इंण्डिया जे शहर मूम्बई में जूलाई 2013 ते गुजारे वईं। सिंध ऐं हिंद जी नामयारी लेखिका, शाईरा ऐं सिंध जे जलावंती सूमरी सुन्दरी उतमचंदाणी मूम्बई में देहांत करे वई, सुन्दरी उतमचंदाणी कजहि वक्त विमार रहण बैदि दम डि॒ञो, नामयारी लेखिका सुन्दरी उत्तमचंदाणी 28 सेपटंम्बर 1924 ते हैदरावाद , सिंध में जन्म वरतो, संदुसि पहिंरि रचना –मूहिंजी धीअ- जे नाले सां 1946 में –साथी- मखजिन लाई लिखी ऐं आखरी दम ताईं कलम सां साथु निभाईंयं। सुन्दरी उतमचंदाणी विरहांङे खां पोइ हैदराबाद सिंध खे छडे॒ जलावंती थी मूम्बई में रहाइश अख्तयार कई, जिते संदुनि शादी दानेशवर ऐं लेखक ऐ जे उतम सां थी, सुन्दरी उसमचंदाणी उस्ताद, लाईब्रेरियन, ऐं कलार्क तोर नोकरी  कई ऐं कंलाणी कालेज मूंम्बईं में लेकचरर्र तोर रिटाअर थी। हून जा किताब “अच्छा गा॒डहा गुल” , “विछोडो”, “नखरेलियूं” , “खेडयल धर्ती” , “तो जनयूं जे तात” ऐं ब॒या केतिरा ई किताब सिंधी साहित्य में अहमियत रखिनि था। सुन्दरी उतमचंदाणी प्राईमरी तालिम हैदराबाद जे शौकिराम चांडूमल मिनयूंसिपल स्कुल मां ऐं मेटरिक तोलाराम गर्ल्स हाई स्कुल मां पूरी कई। विरहांङे खां पोइ 1949 में हून बनारस हिंदु यूनिवर्सिटी मां बी ऐ ऐं ऐस ऐन डी टी यूनिवरसिटी मां सिंधी ऐं अंग्रेजीअ मां ऐम ऐ जी डीगरी हासिल कईं। सुन्दरी उतमचंदाणी हिक बेहतरिन शाहिरा हूअण सबब संदुसि शाअरी जा ब॒ किताब “हगा॒उ”  ऐं “डा॒त बणी आ लात” शाई थियलि आहिनि। इन खां सवाई हून 95 रूसी शाईरनि जूं बेहतरिन कविताउं सिंधीअ में तर्जुमो करे –अमन सडे॒ पयो- नाले किताब शाई करायो। हिन रूसी सदर लिओनार्ड बरजेनेव जे यादगारी ते बं॒धल टे किताब शाई कराया, सिंध ऐं सिंध जे रालेरनि  लेखकनि जे कहाणयूंनि जा ड॒ह मजमूआ, ब॒ नावेल ऐं नाटकनि जो मजमूओ शाई थिअल आहे। सूरमी सुन्दरी जे जिंदगी जो पोरहयो ऐं विरहांङे जो दर्द , हून जूं लेखणयूं असां वट मोजोद आहिनि। आसमान हेठांउ कजहि किरदार ई दर्द जे कलम जो सहारे ड॒ई सघिन था, जेतोणेक हे कम डु॒खयो आहे पर इहो कमु लेखिका सुन्दरी कयो। हिन जे आखरी अलविदा ते सिंध हिंद जूं अखयूं डु॒खायल आहिनि। असां खे पहिंजा किरदार न विसारणा घुर्जिनि पोई इहे केडहे पार में वञी रहिनि पर इनहिनि जूं पाडुं पहिंजी धर्ती सा जुयलि आहिनि इअं ई जिअं सुंदरी जो रूह सिंध सां जुडयलि आहे। असां जेके हिन खे भेटा में सिर्फ ऐतिरो ई चई सघउ था त तोखे हिंअर भी सिंध सारे थी , तुहिंजी आखरी अलविदा ते सिंध भी डु॒खायलि आहे। काश सिंध हूकूमत जो सांसकृतिक खातो लेखिका सुन्दरी खे भेटा डिं॒दे इन जी याद में हिक प्ररोगराम करायो वञे। छा सासकृतिक खाते खां इहो कम  कंदो ? चवंदा आहिन लेखक जी का भी सरहद नाहे त पोई सवाल इहो आहे त सुन्दरी सिंध जी भी लेखिका हूअण जे बावजूद छा सकाफति खातो याद भी कंदो ?

वाणिकी- हिक विसरियल सिंधी लिपी

सामान्य

सिंधी जी असलोकी ब्रामणी कृत लिपी जी गो॒ल्हि घणो तणो वाणिकी- खूदाबादी ताईं अचि निबरिंदी आहे। जेतोणेकि अल-बिरनी सिंध जी लिपीयूंनि बाबत टिन लिपयूंनि जी गा॒ल्हि लिखी हूई मसलनि मालवाडी, हिंदवी ऐं अर्धनागरी पर सिंध में लिपीयूंनि जी गा॒ल्हि रूगो॒ वाणिकी या सिंधी लंडा ते ई अचि बिहिंदी आहे छा काण त लंडा खां अगो॒णो रूप जा पुख्ता सबूत असा जे अग॒या आहिनि। 1958 में भंभोर मां जेतोणेकि के मिसाल मिल्या पर संदनि तादात तमाम थोडी आहे। लडा॒ खां अगु॒ असी केडही लिपी में लिखिंदा हवासि इन जी पुख्ती जा॒ण न हूजण जो हिकु सबब इहो भी थी थो सघे त अर्बनि की काहि वक्त सिंधी साधुनि जो जेको वडो॒ कतलेआम थियो जहिं सबब तालिम जो सिंध मां लग॒ भग॒ सफायो थी पयो। जड॒हि लिपी सांडे रखण ऐं संसकृति जो सफायो थी वञे त इन हालत में लिपी जो बचण लग भग नामूमकिन थी पवंदी आहे।

सिंध जे लिपी नसबत इतिहास बिन भाङनि में विराऐ सघजे थो हिकडो इसलामी अर्बनि की सिंध कब्जे खां अगु॒ ऐं ब॒यो इन काहि खां पोइ। आम तोर सां इहो डि॒ठो वयो आहे त हिंदुस्तान जूं ब॒यूं अण सिंधी भाषाउ ब्रामणी खां संदुनि लिपीअ जो फेरे जा नमोना ऐतिहासिक सबूतनि जे साण पेश करण में कामयाब थी वया आहिनि पर सिंध ऐतिरो खुशकिसमत नाहे रही। इअं न थी सघण के अहम सबब पिणि मोजूद आहिनि मसलनि ….

क)    अर्बीनि के काहि वक्त या उन खां थोडो पोइ सिंध में साधु संतनि ऋषियूं को वडो॒ कतलेआम थियो हो जहिं सबब भाषा सां वासतो रखिंदडन जो सफायो थी पयो हो। ज्ञान डिं॒दड जेकरि न रहिंदा तह लिपी कहिंखे यादि रहिंदी

ख)    अर्बनि के काहि बैदि पुरी सिंधी हिंदु संसकृति जो वजूद मिठाण जी पूरी कोशिश कई वई

ग)     कशमिर, जम्मू ऐं कहिं हद ताईं पंजाब में जिते भी हिंदु पहिंजी हकूमत बि॒हर हथ कई उतोउं  जा राजा महाराजा बि॒हर हिंदु लिपी खे भी हिमतायो जड॒हि त सिंध में इअं किन थियो वरी जेके हिंदु भी मूसलमान थिया ऐं पहिंजे राज्य भी कायम कयो तनि भी इन हिंदु लिपी खे बचाअण त परे पर हूनिनि सिंधी भाषा सोघो करण जी भी का कोशिश किन कई।

घ)     सिंधी हिंदुनि जी पहिंजे ऐतिहासिक तारिखि विरासत बचाअण में दिलचस्पी न जे बराबर रही आहे।

ङ)      सिंधी मूसलमान भी इअं भले मोअन जे दडे बाबत भले फकरु कनि पर अर्बनि के काहि खां अगु॒ वारी विरात खे सांडे सरण में हो भी दिलचस्पी घठि ई वठिंदा आहिनि।

भाषा जे माहिरनि में हिअर हिक राय आहे तह न रूगो॒ हिंदुस्तान जी पर समूरे ड॒खिण ऐशिजा जे लिपियूंनि जी माउ ब्रामणी रही आहे। जुदा जुदा लिपीयूं पोई इन लिपी के फेर फार खां नितकतयूं। सिंध में इस्तमाल थिंदड लिपीयूंनि बाबत संदुन राय मोजिबु लिपीयूंनि जो फेर फार कजहि हिन रित थियो

ब्रामणी खां वीणिकी ताईं जी राह

ब्रामणी खां वीणिकी ताईं जी राह

1958 में ड॒खिण सिंध जे भंभोर शहर में जोकि कराची खां 40 कोहि ई मस जेडहो परे आहे, उते ब्रामणी लिपी जा के अगो॒णा मिसाल लधा वया हवा पर इन खां सवाई सिंध में ब्रामणी खां लंडा जो सफर बाबत सबूत न जे बराबर रहया आहिनि। सिंध में ब्रामणी मां फेरो नागरी वारी वाटि वरती या कशमिरी शारदा – इहो चवण निहायत ई डु॒खयो आहे छाकाण त अर्बनि की काहि खां अगु॒ वारो ऐतिहासिक वरसो रहयो ई कोन्हि। अर्बनि जे काहि बैदि जेका लिपी असां खे हथ अचे थी सा आहे लंडा । इन जो मसलब इहो निकतो तह 712 खां डहीं सदीअ ताईं सिंधी लिपीअ बाबत राहि अजु॒ भी असां लाई गु॒झरात ई बणयलि रही आहे । 1843 में ज॒ड॒हिं अंग्रेजन सिंध फतहि कई तह संदुनि धयान सिंधी भाषा खां सवाई लिपी ते पिणि वयो। अंग्रेजनि के डि॒हनि में तहिं महल वाहिपे में सिंधी लिपी में वडी॒ मेहनत सभिनि खां अग॒वाटि केपटेनि जार्ज स्टेक पहिंजे सिंधी वयाकरण (1849), गेरिसन (लिंगविस्टिक सर्वे आफ इंण्डिया) ऐं विलियम लेअटनर (1882) पहिंजे किताब – A collection of specimen of commercial and other Alphabets में कई ।

गेरिसन पारां पेश कयलि  जुदा जुदा नमूना कजहि हिंन रित आहिनि

गेरिसन पारां तयार कयल फहरसत

गेरिसन पारां तयार कयल फहरसत

 

गेरिसन पारां तयार कयल फहरसत

गेरिसन पारां तयार कयल फहरसत

मशहूर भाषा विज्ञानी जार्ज गेरिसन सिंध में 13 लिपयूंनि जा नमूना ड॒सया, पर वडी॒ गा॒ल्हि इहा आहे त इहे सभ लहजा हिक बे॒ सा मिलिंदड जुलिंदड हवा। सिंध में वाणिकी (इन लिपी खे वाणिकी इन लाई कोठयो वेंदो हो छा काण त इहे हिंदु लिपी घणो तणो धंधो कंदडनि पारां ई इस्तमाल थिंदयूं हयूं ) जा ऐतरा वधीक नमुननि जो हूअण जा हिंक खां वधीक सबब थी था सघनि मसलनि

क)   हूकूमत पांरा सिंधी जे वाहिपे में का भी दिलचस्पी न वठण  (अर्बी लिपी जो भी तहिं महल साग॒यो हाल हो जे अखरनि ते मूसलमानि जी पी पक किन हूई)

ख)   वाणियनि में सभको पहिंजे लेखे अखरनि जो फेर फार कनि (थी थो सघे पहिंजा हिसाब खाता घुझा रखण सबब इअं करण जो रिवाज हूजे)

ग)    वरि बा॒रनि खे तामिल डिं॒दड बा॒भण भी इन चूक खे सुधारण जो को भी दबाउ न हूजण।

घ)    इन लिपीअ में हिंदुनि पारां साहित्य लिखण पढहण जी चाहि न हूजण

अंग्रेजनि खां अगु॒ सिंध में सरकारी बो॒ली अर्बी-फार्सी हूई। जेके हिंदु नौकरयूं कनि तनि खे अर्बी-फार्सी लाजमी तोर पढहणी पवे। रहया हिंदु वाणिया त तनि लाई त हिसाब जेतिरा गु॒झा रखी सघिनि उतिरो ई सुठो । पर जड॒हिं मूसलमान जो राज्य खत्म थियो ऐं सिंधी भाषा सिंध में तसलिम थी त हिक लिपी जी जरूरत महसूस थी जहिं में तालिम भी डि॒ञि वञे। तनि जे डि॒हनि में सिंध संसकार सभा पारां काफी कोशिसयूं कयूं वयूं हयूं जिअं वाणिकी खे हिक सिंधी लिपी करे तसलिम कयो वञे। सन् 1867 में जड॒हिं सिंध अञा बम्बई प्रेसिडेंती जो हिस्सो हूई त अंग्रेज हूकूमत पारां हिक लिपी त्यार कई वई हूई जहिं खे हिंदु – सिंधी जो नाले डि॒ञो वयो हो। इन लिपीअ जो जोडाईंदड श्री नारायण जगनाथ वैदय जेको कि नाईब तालिमी इंसपेकटर हो बांम्बे प्रेसिडेंती जो। हून सिंधी वाणिकी जे खुदाबादी लहजे खे सुधारे ऐं इन में शिर्कारपूरी लहजे जी मदद सा इहा लिपी त्यार कई। हून साई मात्राउनि में सुधारे ऐं सिंधी भाषा के लफतनि जो धयान रखिंदे इहा लिपी त्यार कई।

004

सिंध में इन लिपी में बा॒राणी तालिम तोडे अदालतनि रेकार्ड ताईं में इसतमाल थेअण लगी॒ हूई। इन बैदि होरियां होरिया इन लिपी में सिंधी साहित्य ताई शाई थइअण लगो॒। सिंधी साहित्य में वाणिकी लिपी में पहिंरो किताबु दोदो चनेसर जी लोक कथा जो किताब शाई थियो। 1899 में सिंधी साहित्य की पत्रीका सुखरी पिणि वाणिकी में शाई थी। इहो ई न पर सिंध बाईबेल सोसाईटी इसाईनि जा धर्मी किताब वाणिकी में शाई कया।

दोदो चनेसर बाबत किताबु

दोदो चनेसर बाबत किताबु

सेंट मेथयू  जो फर्मान

सेंट मेथयू जो फर्मान

बद किसमती सां वाणिकी का सुनेहरा डि॒हिं को घणा वक्त कोन हलया। कशमिर जी असलोकी लिपी शारदा जो जहिं रित कशमिरी मूसलमानि विरोध कयो सागी॒ रित सिंध में भी वांङुरु वाणिकी जो सिंधी मुसलमान विरोध कयो जहिं सबब इहा लिपी हली कोन सघी। अजबु जेडही गा॒ल्हि त इहा आहे बि॒हिनि सुबनि हिकडो ई सबब डि॒ञो वयो …त इहे लिपयूं जरिऐ मूसलमानिका लफज नथा लिखी सघजिनि। इहो याद रखण घुर्जे त सिंध में मूसलमानि रूगो॒ इन लाई वाणिकी या वरि देवनागरी जो विरोध कयो त इन जरिऐ  मूसलमानिका नाला नथा लिखी सघजिनि। मतलब त कशमिरी मूसलमानि वाङुरु सिंधी मूसलमानि भी पहिंजे दीन धर्म खे वधीक अहमियत डि॒ञी।

ऐडही गा॒ल्हि किन हूई त सिंध में रूगो॒ हिंदु ई इन लिपीअ जो हिकु रूप खोजकी जे नाले इस्तमाल कंदा हवा। सिंध जा शिया इसमाईली बिरादरी जा मूसलमान पारां इन लिपीअ जो इसतमाल जाम कयो पयो पहिंजे धर्मिक किताबनि में। छा काण त इसमाईली शिया कच्छ, काठियावाड (गुजरात) में बी जाम हवा इहा लिपी कामयाबी पिणि माडी। चयो थो वञे इहा लिपी सिंध खां बा॒हरि बी जाम फैलाई पई इसमाईली शियां पारां।

खोजकी सिंधी – वाणकी या लोहाणी जे जमाम घणो वेझो लेखी वेंदी आहे जिअ हेठि तसविर मां पधिरो पयो थिये। खोजकी जा घणो तणो अखर बिलकुल वाणिकि जेडहा आहे जोतोणेकि किन खे सुधोरो पिणि वयो आहे। कुल मिलाऐ खोडकी हिक निहायत सुहिणी लिपी लेखजण खपे।

खोजकी, वाणिकी, घर्मूखी ऐं देवनागरी

खोजकी, वाणिकी, घर्मूखी ऐं देवनागरी

खोजकी, वाणिकी, घर्मूखी ऐं देवनागरी

खोजकी, वाणिकी, घर्मूखी ऐं देवनागरी

मथे जा॒णायलि मात्राउं खां सवाई खोकजी लिपी में खास करे मूसलमानकी अखरनि खे अर्बी फार्सी उच्चार मोजिबु लिखण लाई के धार मात्रराउं जो पिणि इस्तमाल कयो वेंदो हो । हिक गा॒ल्हि धयान रखण जेडही आहे त खोजकी हरू भरू हर अर्बी अखरनि खे लिखण ते जोर किन डि॒ञो पर रूगो॒ उहे इ खअर खया पया जंनि को सुर चिठि रित पधिरा हुजिनि ऐं नंढे खंड जा इसमाईली मूसलमान उच्चारिनि। कुल मिलाऐ खोजकी सिंधी वाणकी या खुदाबादी खां भी बेहतरिन लिपी थी उभरी पर सिंधी कोम छो त हिंदु मूसलमिम फर्कनि खां उभरी किन सघयो सो सिंधी भाषा हिक बे॒हतरिन लिपीअ खां परे इ रहजी वई।

सिंधी जी खोजकी लिपी (सुधरियलि)

सिंधी जी खोजकी लिपी (सुधरियलि)

सिंधी जी खोजकी लिपी (सुधरियलि)

सिंधी जी खोजकी लिपी (सुधरियलि)


जेसिताईं वाणिकी जे जड जी गा॒ल्हि आहे त मञयो इहो वेंदो आहे त वाणिकी लंडा लिपी मां निकती आहे जहिंजा ब॒ लहजा जा॒णाया वया आहिनि हिकडी पंजाबी लंडा ऐं बी॒ सिंधी लंडा। पंजाबी लंडा खे सिखनि 16 सदी में फेरे गुर्मूखी जो नाले जाम फेर घार करे पेश कयो ज॒ड॒हिं स सिंध में इहा वाणिकी कोठजण में आई। लडां ड॒खण कशमिर, हिमाचल प्रदेश ऐं जम्मू  में गा॒ल्हिईंदड पाहाडी बो॒लयूं मसलनि डोगरी जी लिपी लाई इसतमाल थिंदड टकरी लिपी सां जाम मिलिंदड झुलिंदड आहे जिअं हेठि मिसालनि मां पधिरो पयो थिऐ। इहो याद रखण घुर्जे त टकरी ड॒खिण कशमिर जी लिपी आहे ऐं महाराजा डा॒हिर जे डि॒हनि में सिंध जी सर्हद कशमिर ताईं फैलयलि हूई। मूमकिन आहे तह वाणिकी (लंडा) ऐं टकरी लग॒ भग॒ हिक ई वक्त शारदा मां धार थी या वरि टकरी मां ई फेर फार थी मटजी लंडा पैदा थी जेका वरी फिरी वाणिकी थी।

वाणिकी, शारदा , टकरी ऐं गुर्मूखी जे भेट

वाणिकी, शारदा , टकरी ऐं गुर्मूखी जे भेट

सिंध जो ड॒खण पंजाब जे मूलतान वारे इलाईके सां तमाम घणो रिस्तो रहयो आहे। चयो वेंदो आहे त आगो॒ठे जमाने जो सिंधु सुवेर जे ऐलाके में  कच्छ, काठियावाड , सिंध ऐं मूलतान जी गड॒यलि हकूमत हकूमत हूंगी हूई। जेका लंडा मूलतान में मूतानी कोठबी हूई तहि में ऐं सिंधी वाणिकी में भी जाम हिंकजेडहाई पसबी आहे। हेठि सिंधी ऐं मूसतानी जी लिपी भेटि पई आहे। इन मां सिंध ऐं मूलतान मे इसतमाल थिंदड लंडा मंझ वाईडो कंदड हिकझेडाई पई डि॒सजे।

मूलतान ऐं सिंध जी लंडा लिपी

मूलतान ऐं सिंध जी लंडा लिपी

सिंध में रहिंदे वाणिकी ( या खोजकी) लिपी सिंधी भाषा जी लिपी तसलिम कोन थी, इअं थेअण भी मूशकिल हो, थी भी कोन सघे हा । सिंधी मूसलमान कड॒हि इन खे तसलिम कोन कनि हा। जेकरि अंग्रेज हकूमत वाणकीअ खे तसलम कनि हा त मूमकिन आहे त सिंधी मूसलमान अर्बी ही पडहिंदा अचनि हा या इहो भी मूमकिन हो त हो भी कशमिरी तोडे पंजाबी मूसलमानन वाङुरु उर्दू खे वडे॒ मयार जी बो॒ली तसलिम कंदे सरकारी बो॒ली तसलिम करण जी घुर कनि हा। खैर जेसिताईं हिंदुनि जी गा॒ल्हि आहे यकिनि सिंधी मूसलमानि खे मञाअण संदुनि वस खां बा॒हर हो। पर गलति असी सिंधी हिंदु हिते कई जड॒हिं असी पहिंजी लिपी वाणीकी खे पाण खां पासिरो संदे धारी धारी लिपी अर्बी खे मयार जी लिपी मञण शूरू कयोसिं।

लिपीअ जे नसबत पंजाब ऐं सिंध में फर्कु इअं त न जे बराबर आहे। ब॒ई कोमअ लडां खे अपनायो, जेतोणेक फर्क अगे॒ हलि कजहि वधया, पर जड॒हि तह पंजाबी सिख लंडा खे हिक मयार जी लिपी करे पेश करण में कामयाब थी वया सिंधी लिपीअ जे बदलाउ जे पहिंरे पडाउ ते इ रहजी वया। अजबु जेडही गाल्हि त इहा आहे जे सिंधी खास करे उतर सिंध जे अलाके में गुर्मुखी में सिंधी ताईं लिखिंदा हवा पर पहिजी लिपी खे उहा अहमियति या गुर्मूखी जी वाठ वठी पहिंजी सिंधी लंडा खे सुधारण में तमाम घट दिलचस्पी वरती।

सिंधी हिंदुनि जो हिंदुस्तान में लडे॒ अचण हिक हिक बेहतरिन मौको डि॒ञो हो तह सिंधी भाषा सा थिअल नाहक खे पोईते छडि॒दे वाणिकी खे हिक मयार जी लिपी करे पेश कयूं। पुणे जे रहवासी पंडित कृष्णचंद जेतली काफी मेहनत कई त सिंधीजी भी हिंक खसूसी लिपी हूजे त सिंधी जी बी हिक धार सुञाणप हूजे पर अफसोस त सिंधी लेखकनि इअं थेअण किन डि॒ञो। पंडित जेतली हर हिक सिंधी वाणकी लिपीअ जे अखर खे दुरुस्त करे इन खे सही रूप डि॒ञो। ऐतरो इ न पर मोअन जे दडे में इसतमाल थिअल लिपीअ सा भी भेटयो। किनि भाषा विज्ञानियूंनि मसलनि सुनिती कुमार चैटरजी जेडहनि जो मञण आहे त जेतोणेकि मोअन जे द़डे जूं लिपी में 400 नमूना इसतमाल कया वया आहिन पर इन के वावजूद के अखर मोअन जे दडे ऐं ब्रामणी जा हिक बे सां खाफि हिजेडाई डि॒सजे पई जहिं सां इहो थो सयो भाईंजे त मूमकिन आहे त अगो॒णे अर्यनि खे किथे न खिते इहा लिखावट जा के नमूना नजर आया हूजिनि ऐं संदनि इन नमूनन खे इसतमाल कंदे ब्रामणी जो इजाद कयो हूंदो। अजबु जेडही गा॒ल्हि त इहा आहे जे जड॒हिं त असीं मोअन जे दडे खे सिंधी कोम सां गंडणनि में मिंटु देर कोन कयूं पर लिपी जे नाले ते इन लिपी खे पहिंजो करे लेखण लाई असुल ई त्यार नाहियो।

पंडित कृष्ण चंद जेतली की वाणीकि लिपी

पंडित कृष्ण चंद जेतली की वाणीकि लिपी

014

जेकरि असीं वाणिकी खे अपनायों हा त शायदि लिपी जा गो॒ड सिंधी बो॒ली तोडे भाषा जे नसबत हमेशाह लाई निबरी वञिनि हा। असी इहो चई सघयूं हा वाणिकी ई सिंधी जी निजी॒ लिपी आहे ऐं सभिनि खे वाणिकी लिपीअ में इ सिंधी जी लिख पढ करणी आहे पर इहो मूमकिन किन थी सघयो। असां पाण ई पहिंजी लिपीअ जा वेरी थी विठासि। इन लिपीअ खे हेठि करे डे॒खारण में को बी मोको पहिंजे हथनि को विञाअण डो॒हू समझोसिं।

वेझडाईअ में ऐडहयूं कोशशयूं थोणेक थयनि पयूं जहिं जी मदद सा वाणिकी (खोजकी ) या खुदाबादी खे बि॒हर हिक मयार जी लिपी करे उभारयो वञे। अमेरिका वासी अंगशुमन पांणडेय हिंदुस्तान तोडे दखण ऐशिया जूं ब्रामणी कृत लिपीयूंनि ते जाम कम कयो आहे जिअ इहे विसरी वयलि लिपयूं कमपयूटर जरिऐ भी लिखजिन। लिपी यूनिकोड जहिऐ लिखजे इन लाई पंज डा॒कणयूं पर पयूं करणयूं पवि ऐं खोजकी ऐं वाणिकी 4 डा॒कणयूं पार करे चकयूं आहिनि पर इन जे बावजूद सिंधी समाज हमेशाह वाङुरु इन कम बाबत बेपरवाहि ई रहयो।

सिंध में देवनागरी इस्तमाल थिंदी हूई छा खाण त उहा संसकृत जी लिपी हूअण सबब हिंदु शाशत्र सभ संसकृत लिपी यानी देवनागरी में लिख्यलि आहिनि। सिंध में धार्मिक ग्रंथनि जो रिवाज सिंधी में लिखण जो रिवाज पोई पयो। पर जेसिताई गा॒ल्हि देवनागरी जरिऐ सिंधी लिखण जी आहे त सिंध में सिंधी बो॒ली लाई देवनागरी जो इस्तमाल सभिनि खां अगा॒वटि अंग्रेजनि कयो। इन में को भी शकु नाहे तह देनवागरी  संसकृत जी लिपी हूअण सबब सिंधी सुधी लग॒ भग॒ हर भारतिय बो॒लियूंनि लाई काराईती लिपी आहे। पर इन जो मतलब इहो नाहे त पहिंजी लिपी विसारिजे। लिपयूं रूगो॒ कहिं भी बो॒लीअ खे लिखण जो जरिओ ई न पर इन जी सुञाणप ऐं संसकृति जो हिंक बेहद अहम हिस्सो थिंदी आहे। हिंदी ऐं उर्दू जी लडाई जो हिक वडो॒ सबब लिपी ई हूई। वरि अंगेरजनि जे वञण खां पोई ऐडहा भी मोका आया जड॒हि हिंदी लाई भी सुझान डि॒ञा वया तह हिंदी खे भी रोमन लिपीअ में लिखजे पर हिंदी लेखकनि इअं थेअण किन डि॒ञो।

बदकिसमतीअ सां सिंधीयूंनि कड॒हिं भी इन सवाल ते संजिदगी कोन डे॒खारी। सिंधीयूंनि में जड॒हि भी लिपीअ जी गा॒ल्हि आई आहे असां किड॒हिं भी पहिंजी संसकृती खे न पर लिपीअ जे वाहिपे या दिन धर्म खे अहमियत डि॒ञी आहे। हिंदुस्तान में अञा मस अर्बी मां निजात भी कोन पाती आहे जे रोमन जो गो॒ड मथे ते अची वेठो आहे। ऐडही गा॒ल्हि नाहे त लिपीयूं मठबूं नाहिनि। हिंदुस्तान में गुजराजी, मराठी पिणि लिपी मठाऐ चका आहिनि पर लिपीयूंनि जो मठजण ऐडहो भी  नाहे जे बिलकुल धारी बो॒ली जूं लिपयूं अपञायों। अर्बी या वरी रोमन पहिंजी साख जे बो॒लयूंनि लाई हिक मयार जी लिपी थी थूं सघिनि पर सिंधी या कहिं भी ड॒खिण ऐशिया जी भाषा लाई इन लिपी जी का भी अहमियत नाहे।

सिंधीयूंनि लाई हित वडो॒ सवाल इहो आहे जे छा हिंदुस्तान तोडे परडे॒हि जो सिंधी समाज पहिंजे संसकृति सां गंढण लाई त्यार आहे … छा असां पहिंज अतित खे सोघो करण लाई तयार आहिंयूं….सिंधीयूंनि जे वहिवार सां इअं लगे त कोन थो जे असीं पहिंदी संसकृति खे याद करण जी जरे जी भी चाहि रखउं था

किड॒हिं थिंदासि पहिंजे देश जा।

सामान्य

 

सिंध तोडे पाकिस्तान में हिंदु हिक ऐडहे चक्रर्वियू में फाही चुका आहिनि जहिं मां निजात पाअण ऐतिरो भी को सहूलो कम जेतिरो हिंदुस्तान मां वेही समझो वेंदो आहे। असां जी टेही जहिं कड॒हिं सिंध कोन डि॒ठी, सिंध में आम हिंदुनि मंझ वक्त किन गुजारो – सिंध में हिंकु हिंदु थिअण जो अहसास कोन माणो पहिंजे ई रत पारां जलिल थिंदे कोन डि॒ठो, – हे हिकु अणजातो आजमूदो आहे जहिं सो सही अहसास करण असां खे वस खां बा॒हार आहे।

सिंध में हिंदुनि ते जूल्म जेतोणेक नया नाहिनि, इहे तह हमेशाहि ई थिंदी रहया आहिनि, पर जहिं सुरत में पिछाडीअ जे 65 सालनि में पहिंजो भोवाईतो मूहांडरो डे॒खारो आहे सो इन खां अग॒ वरलि ई ड॒ठो वयो हो। सिंध में हिंदु भले कहि भी तबके जो छोन न हूजे, कहि भी ज॒मार जो छोन नह हूजे सिंध जे कहिं भी इलाके में छो न हूजे कहि भी जाति जो छो न हूजे हिक हिंदु हूअण जो अहसास मसझे थो।

सिंध अंदर हिंदुनि सां केडहो सलूक पया कयो पयो वञे, सिंध में सामाजिक तोर या सियासी तोर हिंदु सिंधीयूंनि जी केडही हैसियत रहि आहे। सिंध में रहिजी वयलि हिंदु सिंधी छो लड॒ण लाईं मांदा रहया आहिनि, रियासती इदारनि जो केडहो सलूक रहयो आहे, आम सिंधी मूसलमान जो केडहो सलूक रहयो आहे ऐ वडी॒ गा॒ल्हि त हिंदुस्तान हूकूमत जो केडहो रदे अमल थिअणो खपे  इन मसले नसबत … – हे उहे सवाल आहिन जेहिंजो जवाबु सिंध जो हिंदु तड॒हि ड॒ई तो सघे जड॒हिं हो महफूज ऐं बे-ढप हूजे जेको रगो॒ तड॒हि मूमकिन आहे जड॒हिं हिंदु सिंदी सिंध खां बा॒हर हूजे। सिंध में हिंदु केडहि दहेशत में था रहिनि इन जो अंदाजो इन गा॒ल्हि मां कड॒हि सघजे थो हो शोशल मिडिया में जिते आम तोर सां घणो कजहि बेढप जाहिर थो करे सघजे सिंध जा हिंदु कुछण लाई त्यार नाहिनि…!!!

इहो डि॒ठो वयो आहे त आम तोर सां सिंधी लोहाणा, सिंध में थियलि जूल्मनि बाबत खामोश रहिंदा आहिनि शायदि खेनि हिंदुस्तान में पुलिस पारां पाकिस्थानी हूअण जे सबब तंग थिअण जो ढप हूंदो आहे। ऐडहा जाम वाक्या थिया आहिनि जिते पूलित तोडे ब॒या सरकारी मूलाजिम पारां लडे॒ आयलि सिंधी हिंदु तंग थिया आहिनि जहिं मां निजात तड॒हि वञि मिलि थी जड॒हि का भूंग या रोकडनि सां संदुनि खिसा भरया वञिनि। खैर अहमेदाबाद में इतफाक सां ऐडहे ई हिंक आकहिं सा राबतो थियो जेके 20 सालनि बैदि भी नागरिकता मिलण जे जा॒रु (गणतियूं) पया कनि। वडी॒ गा॒ल्हि त इहा जे हूनिनि पहिजे पाण ते थिंदड जूलमनि बाबत गा॒ल्हिईंदे जरे जो भी हिजाबु या ढप किन डे॒खारो ।

2 3 4 Pak in Ahd_Page_1

पहिंजे बाबत विचूड डिं॒दे श्री निर्मलदास  चयो साईं “आउं लाडकाणे को आहियां। गो॒ठू रतोतिल जो। सिंध में लाडकाणे में मूहिंजो कारोबार हूंदो हो। इंअ त माहोल ऐतिरो खराब किन हो पर 1960 खां पोई हालतु उमालक बिगणण लगयूं । मूंहिजी हयाती में फेरो तड॒हिं आयो जड॒हि मूहिंजे बि॒नि सालनि खे डि॒हिं तते सरे आम कतल कयो वयो। ब॒ई फोहू जवानी में हवा। हिकडे उतेई तम तोडयो ऐं बे॒ खे कराचीअ खणाऐवयासिं । 21 डि॒हिं सांदही जाखडे बैदि नेठि हून भी दम तोडयो। मोत सां हो पुजी॒ किन सघयो। गा॒ल्हि उते खतम किन थी । मूहिजे सहूरे खे अग॒वा कयो वयो। भूंग ड॒ई किअ भी करे आजाद करायोसिं जड॒हिं तह मूंते पिणि अगवा॒ तो वाक्यो थी चूको आहे पर मां किअ भी करे भजी॒ निकतुसि। असां हेकला नाहियों। सिंधी हिंदु ऐं खासि करे धंधेडी हिंदुनि सां ऐडहा वाक्या हाणे आम थी पया आहिनि। असीं घरनि खां बा॒हर भी निकरउ तह इन जो पूरो धयान रखउ त मता को असां जे कड॒ त कोन पयो आहे। रात जो हेलले निकरण जो स सवाल ई नथो अचे। असीं सिंध में इहा कोशिश पूरी कयूंनि तह ल़टनि कपडनि तोडे वेश भूषा सां कहि भी रित हिंदु किन लगउं त मतां खहिंके इन गा॒ल्हि जो छिड्रु न वपे त असीं हिंदु आहियूं।“

हुन अग॒ते चयो तह मां सिंध रहिंदे अहमेदाबाद आयो हो। विजा टिन महिनिन लाई हो पर बैदि में वरि टटिन महिनि लाई वधायो हो। हिंदुस्तान में सकून आहे अमन आहे। मां मोत कबूल कंदुसि पर मोटी सिंध कोन वरिनिदुसि। असां जो पहिंजा चई को भी नाहिनि। असां हिंदुनि लाई सिंध में रण बा॒री वई आहे।

असां हिंद में जा॒वलि सिंधी जनि नंढे खां माईटनि पारां सिंध में सेकुलिजम जा डि॒घा डि॒घा दावा बु॒धिंदे वडा॒ थिया आहियूं, इहो निहायत ई वाईडो कंदड मंजर आहिनि ऐं वडी॒ गा॒ल्हि इहा त इहो सभ उते पयो थिऐ जिते सिंधीयूंनि (मूसलमान ) जी घणाई आहे !!! श्री मिर्मलदास पिणि मूखे इन गा॒ल्हि जो पधराई कई त असीं लाणकाणे जेडहे शहर में भी जिते वडी॒ तादाद हूंदी हूई हिंदुनि जी पर हिंअर अग॒वा थिअण जो खोफ हमेशाहि रंदो आहे। असीं डा॒ड्ही भी मूसलमानि वाङुरु रखउं जिअं कहिंखे इहो इहो छिड्रु न पवे त असीं वाक्ई हिंदु आहियूं। असीं त सिंधी में खूली रित ऐतजाजत बि कोन करे सघउ मतां मूसलमानि खे इअं न लगे त असीं खेनि खुयार था कयूं इंसाफ जी उमेदि करण त परे जी गा॒ल्हि थी।

इअं चवण लाई त हिंदुस्तान तोडे पाकिस्तन में मंझ हिक ठाह मोजूद आहे जेका बिलकुल हिन मसले लाई ई वजूद में आंदो वई आहे पर न त हिंदुस्तान ही हकूमत पांरां कहि भी अमल डा॒हि धयान डि॒ञो ऐं न ही हिंदुस्तान को सिंधी समाज। अहमेदाबाद जी सरदारनगर तक कहि ते भलो को कुछ भी छोन करे सिंधी वोटन खां सवाई खटि कोन थो सघे, उते पिणि इन मूदे ते खामशी ई आहे। पर-साल हित आलमी सिंधी संमेलनि थियो जहि में डे॒हि परडे॒हि जा सिंधी ग॒डु थिया वडी॒ गा॒ल्हि त आडवाणी तोडे गुजरात जो वडो॒ वजिर ताईं मोजूद हो पर सिंध जे हिंदुनि जे मसलनि जो जिक्र ताई कोन थी सघयो कहिं इन मसले ते जोर ई किन डि॒ञो।

हर लड॒पण जा पहिंजा मसला थिंदा आहिनि । 1954 बैदि थिंदड लड॒पण में नागरिकता हिकु वडो॒ मसलो थी विठो आहे। लडं॒दड हिंदुनि खे 7-10 सालनि ताई बिना नागरिकता रहणो थो पऐ। वरि हर सूबे सुबाई सरकारनि साग॒यो रलईयो किन रहयो आहे। मध्य प्रदेश, राजसथान, छतिसगढ में जिते नागिरकता मिली भी थी वञे पर गुगजात जिते हिंदुस्तान में सिंधीयूंनि सभनि खां वडी॒ आबादी पई वसे उते इहा हिअऱ 30 – 30 सालनि ताईं नागरिकता किन थी मिले ऐं मथोउ वरी सरकारी आफिसरनि जो ड॒चो सो धार।

गुजरात में लडि॒दड हिंदु सरकारी मूलाजिम लाईं ज॒ण लडिं॒दड हिंदुनि ज॒णु पैसे उगारण जो वडो॒ जरियो ड॒ञो आहे। अहमेदाबाद में रहिंदड डा रमेश (नालो फिरयलि) जो चवण आहे मस जेहा 20-25  लडयलि मस जेडहा गड॒निन था जे आफिरस जा फोन अचण शुरू था थी वपनि. हो पुछिन साईं अव्हा कहि मसले ते इहा गड॒जाणी कोठाई, केर केर आया हवा वगिराह वगिराह ऐं जेकरि को कची नस वारो सिंधी निकतो तो आफिसर भूंग (रिशवत) ओगारण में मिंट देर न कंदो। हो थदो तड॒हि थिंदो जड॒हिं रोकड हथ में मिलिनिस।

इन गा॒ल्हि जी पुठिभराई जाम लडं॒दड सिंधी हिंदु कई आहे त गुजरात में सरकारी अफसरि जो वहिंवारु डु॒खाईंदड रहयो आहे। श्री मिर्मलदास जे पुट जो चवण हो तह असां खे सजो॒ सजो॒ डि॒हिं इन आफइसरनि वठि वाहायो वेंदो आहे उहो घर में जाइफां ऐं बारनि ऐं गेरेंटर सुधो। हर नंढि गा॒ल्हयूंनि ते दब॒ पटण, बेअजत करण ज॒ण संदुनि नित मियम हूजे। अजबु जेडही गा॒ल्हि त इहा आहे इहो सभ हिक ऐडहे सुबे में पयो थिऐ जहिं खे हिंदुत्व जी प्रयोगशाला ताई कोठयो पई वेंदो रहयो आहे। जेकरि लडिं॒दर हिंदुनि का आकडा डि॒सजिन तह गुजरात हेकलो सुबो आहे जिते लडे॒ आयलि सिंधी हिंदुनि खे विजा ऐं सरकारी अफसरि जे दबा॒उ सबब सिंध मोठी ताईं वञणो पयो आहे पर इन ते भी सिंधी समाज खामोश। अजबु जेडही गा॒ल्हि त इहा आहे तह आर ऐस ऐस ऐं बी जे पी पिणि इन ते माठ रहण में ई पहिंजी सयाणप ई समझिंदा आहिनि !!.

सिंध तोडे पाकिस्तान मां लडिं॒दडनि सां हिकु ब॒यो मसलो इहो आहे त हिंदुस्जान में हिक लड॒पण मूसलमानि पारां भी पई जेका तमाम सहूलाई सां ऐं बिना रोक ठोक सां पई थिये। छो तह बंगलादेश की सर्हद अगो॒पोई सिल नाहे सो इहा लड॒पण अजु॒ ताईं पई हले। वरि वोट बैंक की सियासत इन मसले खे निबरण ई किन डि॒ञो। पर जड॒हिं कानून जी गा॒ल्हि पई अचे तह बि॒हिनि लड॒पण हिकु करे डि॒ठयूं पयूं पञिनि। हिक पासे गैरकानूनी लड॒पण ऐं सुख त बे॒ पासे कानूनी लड॒पण ऐं आफिसरन जो ड॒चो।

2005 में असाम जे कोमिप्रसतनि जे दबा॒उ में सरकार नागरिकता के कानून में वडो॒ फेरबदल कंदे नागरिकता डे॒अण जा हक जिले मेजिस्ट्रेट खां खसे मर्कजी हूकूमत जे गृह वजिरात खे डि॒ञा, जहि सबब बंगलादेशिन खे सहलाई सां नागरिकता वारो मसलो त कहि हद ताईं निबरी वयो पर सिंध मां लडिं॒दड हिंदुनि जी बे॒डी बु॒डी वईं। नागरिकता मिलण मूशकिल थी पया। सरकारी आफिसर जा धिका खां वधिक दिल्ली जा धक डु॒खया लगिनि।

साल 2011 में दिल्ली हाई कोर्ट के फैसले बैदि हूकूमत जेका नोठिफिकेशन पधरी कई जहिं में  साफ साफ जा॒णाआहे तह हूकूमत पाकिस्तान में  थिंदड जुल्मनि बाबत तहकिक कई आहे ऐं इनहिनि खे सही पातो आहे पर जड॒हिं नागरिकता जी गा॒ल्हि पई अचे हर को माण्हू भले इहो कहिं भी मूल्क मां छो न हूजे कानून साग॒यो ई लागू थिऐ।।। ऐडी॒ वडी॒ ब॒याई पई थिऐ पाकिस्तान मां लडे॒ इंदड हिंदुनि सां पर सिंधी समाज खामोश …सिंधी अगवान भले हो भाजप जा हूजिनि या कांग्रेस जा कड॒हि भी इन मसलेते हाई घोडा करण जी जरूरत कोन समझी।

ऐडही गा॒ल्हि नाहे त सिंधीयूंनि वटि ऐडही का संसथा नाहे जेका नागिरकता लाई जाख़डो न करे सघे। पिछाडीअ जे टिन ड॒हाकनि खां सिमान्त लोक संघटनि सिंधी मां लडे॒ आयलि भील, मेघवार, कोली माली वगि॒राह जातियूंनि लाई जाखडो पई करे पर वरली ई  कहि सिंधी संसथा खेसि पहिंजो समझी साथ डि॒ञो हूजे। इहो सब इन जे वावजूद जे इंन संसथा जे रहबर श्री हिंदु सिंह सोढे खे हर शहर में सिंधी सुञाणिनि पर जड॒हिं इन संसस्था के मदद जी गा॒ल्हि थी अचे तह उमालक सिंधी लोहाणनि खे जातियूं पयूं याद अचिनि। हा पर जेतसाईं पहिंजे नागरिकता मिलण जी गा॒ल्हि आहे तह रिवाजी सिंधी कहिं भी संसथा खे पहिंजो करण में मिंटु देर किन थो करे। छा मस जेडहो कमु निकतुनि जे हो किथे ऐं संसथा सा हूबु ब॒यो किथे।

अहमेदाबाद में जेतरनि भी सिंधीयूंनि सा मां राबतो कयो , जिनहिन सां भी गा॒ल्हि बो॒ल्हि थी इलहिनि मंझसि घणाईं उनहिनि जी हूई जेके मसले खे त समझिनि था पर लडे॒आयलि हिंदु सिंधीयूंनि लाई रसतनि में जाखडो करण लाई असुलि ई तयार नाहे। हूनिनि जो अजु॒ भी मञण आहे तह सिंध मां लड॒यलि हिंदु सिंधीयूंनि ला जोखडो सुठो पर हो भी तड॒हिं जड॒हि ब॒यो करे।

मतलब साफ आहे त अंग्रेजनि जे डि॒हिनि में सिंधी अग॒वान जहिं मौकाप्रसती सबब सिंध जो हिंकु नंढो टूकर बी पहिजो कोन करे सघया सा मोकाप्रसती अजु॒ पहिंजे पूरे सभाब में हिंदु सिंधीयूंनि जे रत में मसाईजी वई जहिखां निजात पाअण ऐतिरो भी सहूलो नाहे जेतिरो समझो पयो वञे।

जेसिताईं उहो मूमकिन थिऐ लडे॒ आयलि हिंदुनि खे रूगो॒ नागिरकता रूगो॒ नागरिकता ताई आस ई रखी था सघीनि ऐं ड॒हाकनि खां ड॒हाका इन सवाल सां जिअण पवंदो त किड॒हिं थिंदासिं पहिंजे देश जा नेठि किड॒हिं…

सिंध जा लूड्क उघी सघिंदासी……!!??

सामान्य

सिंध में जेकरि कहिं सिंधीअ खे आर्तवार डि॒हिं कहिं लेख जो इंतजार हूंदो आहे त उहो आहे श्री असद चांडिये जे अवाणी आवाज में शाई थिंदड लेख को। असद चांडियो उन मजलूमनि जो आवाज आहे जहिं जो सडु॒ बुधी बि सिंध अणबु॒धो कंदो आहे। पेश आहे संदुसि लिखयलि हिक बेहतरिन लेख। हे लेख अर्बी सिंधी मां देवनागरी सिंधी में उलथो कयलि आहे। उमेदि तह पडिहंदडनि के वणिंदो।

asad-chandio

सिंध जा लूड्क उघी सघिंदासी……!!??

लेखक असद चांडियो

साल 2006 में नयाणी के पैदाईश खां अगु॒, मां केतिरा ईं डि॒हिं सोचिंदो रहिंदो होसि त पहिंजे पहिरें बा॒र खे ऐडहो केडहो नाले डि॒जे जो, प्यार जे इजार में कहि भी किसम जी का कसर रहजी नह वञे। ऐं पोइ वरी वरी सोचण बैदि भी जहन में हिक हंद ते ज॒मे बेही रहयो ऐं इअं ई 22 अगस्त 2006 ते पहिंजी बा॒रङी जो नालो पवजी वयो “सिंधु” । नयाणी खें “सिंध” जो नाले जे॒अण खां वधीक, मूखे प्यार जो ब॒यो को इझहार सुझयो ई नह !! जनि भी मिठन माईटन खे खबर पई तह पहिरें धक में “सिंध” खे “सिंधु” ई समझो, पर पोई मां खेनि समझाअण शुरु कयो :  “त सिंधु , सिंध जो हिक दरयाउ आहे। हिअ सिंध आहे, पूरी सिंध। रणण, पठनि, पहाडनि बयाबानन, रेघिस्तानि,सायनि, माथिरनि, शहरनि, समूडनि ऐं बेट समेत मखमल सिंध”। बे॒ डिं॒हिं “अवामी आवाज “ पहूचण ते जड॒हनि दोस्तनि , साथीयूंनि खे बुधायूंम त : “मूहिंजे घर सिंध आई आहे” तड॒हि समूरन इंतहाई खूशीअ जो इजहार कयो सवाई हिक दोस्त लाला हूसेन पठाण जे, जहि हिकु लम्हो खामोश रहण खां पोई चयो :  “पहिंजी बा॒रडी ते सिंध नालो न रखें हा, सिंध त डु॒ख ई डु॒ख आहे”.

19 जनवरी 2013 में खपरे शहर मां  पहिंजे ससु मुडुसि ऐं सहूरे समेत वाटि वेंदे ऐलाईके जे बाअलसर मरी खांदान हथउ अगवा कयलि धणी भील जहिंखे पोई कुवांरी छोकरी ऐं पसंद जो परणो कंदड “प्रेमिका” करे इअं जाहिर कयो वयो जो, खेसि जज आडो॒ पेश करण दौरां संदुसि वकिल कांजी मल खे अदालत पहूचण जी हिमथ कान थी !!! ऐं पोई धनीअ जी माउ समझू भिल अदालति बा॒हिरां इअं चवदे भी रही ऐं रोईंदे भी रही  “मूं सां इंसाफ कंदो तह निरी छत वारो,  जमिन खुदा असां खे इंसाफ नथा डे॒ई सघे। असां गरिब आहियों, कोर्ट ऐं कानुन असां लाई नाहिनि। मसलनि 15 डिं॒हिं ऐतजाज कयो, पर इंसाफ मिली न सघयो”।

मूंहिजे नई दिल्ली वेठल दोस्त इअं ई पइ रोयो जो, हो पहिंजो रोअण जाहिर करण चाहे भी नथो। पहिंजो डुख असा सा सुलण भी चाहे थो, पर खेसि पहिंजी पीडा जे बदनामीअ जो दाग॒ बणजी वञण जी त पक आहे पर इनसाफ थी सघण जो को भी असिरो नह !! जहिं करे हो नह चाहिंदे भी चवे थो:

“असद, तुहां सा हिक दिल जी गा॒ल्हि वढण चाहया थो । मां 11 जूलाई 2012 जो पहिंजे सिंध माता खे छडे॒ हमेशा लाई भारत हल्यो आयूसि, आजु मूखे दिल धोडि॒दड खबर मिली आहे तह अजु॒ मूहिजे 14 सालनि जी सोट  जी धीअ खे अगवा करे “पाक” कयो वयो आहे। 14 सालनि जी मासूम बारडीअ खे 15 डिं॒हिनि खां पोई, घोटकीअ जे बालसर वट जाहिर कयो वयो आहे। मूंहिंजा लूडक नह पया बिहिनि, पर इहे सिंध का लडक आहिनि । आलाई कड॒हि इन लाईक थिंदासीं जो सिंध जा लूडक उघी सघींदासिं ……!!?

पंजनि सालनि जी उमर में हिकु ऐडहे ऐजाय जो शिकार थियलि मासूम वेजंती , जहि जो हर को तसवीर करण खा भी कासिर आहे, जूं लियारी जर्नल असपताल में डि॒ठल उदास अखयूं ऐं संदुसि डा॒डी संगिता जो आलयूं अखयूं सां पुछल सवाल :

“असां खे इंसाफ नाहे मिलणो तह इजाजत डि॒यो तह असीं पहिंजे मूल्क हलया वञूं ?”  पहिंजे देश में वेसाउ घातीअ जो निशाणो बणयलि हिक मजलूम के जुबान ते आयलि जिउ झरिंदड लफज असां खे का गा॒ल्हि समझाऐ सघिंनि था…मजलूमनि जे दर्द को अहसास डे॒आरे शघिनि था..!!

16 महिना अगु॒ चक शहर में, काजी गूलाम मूहमद भयई दिवान दुकानदार खे उधड घुरण जी इअं सजा डे॒आरी जो , संदुनु नोजवाननि ते कूडो भता मडही, जहि डिं॒हि कुर्बानीअ जे ईद जी खुशी पई मल्हाईजे वई, इन शाम को कलिनिक ते वेठलि चईनि दोस्तनि डाकटर अजित कुमार, नरेश कुमार, अशोक कुमार ऐं डा सत्यपाल से इअं पई गोलयूं वसायूं वयूं जो फक्त डा. सत्यपाल ई सख्त जखमी थिअण जे बावजूद भी पहिंजी जान बचाऐ सघयो। नंढे शहर में हिक ई वक्त टे अर्थयूं उथयूं पर इलाके का मजहबी जनूनि इन गा॒ल्हि ते भी चिड्ही पया तह- टिन इंसानन जे कतल को केस छो दाखिल करायो वयो !!? जे कानून के किताबनि जो पेट भरण लाई  को काग॒र कारो करणो ई हो त पोई , पूलिस के इहा मजाल किअ थी त, मूख्य डो॒हाडी काजी गुलाम जे गिर्फतारी ताई छापो हयों वञे !! ऐं पोई हिक मजहबी कारूकनन खे थाणे जो घेरो कंदे डि॒ठो वयो। नतिजे में कुर्बानी जी ईद डि॒हिं कुर्बान कयलि टिन हिंदु खानदान जे भातीयूंनि सोग॒ को तडो॒ त विछायो, पर इन ते वेठे, अखयूंनि में पहिंजे गम जी आलण आणण खां भी पाण खे रोके रखो – किथे मूसलमान कावडजी न पवनि …!!  जड॒हिं संदुनि अखयूंनि जा बंद सफा टूटण थी लगा॒, इन वक्त को बहानो करे, पहिंजे घरनि में दाखिल थी, हयाउ हलको करे मोठी थी आया..!! ऐडहे सानहे (वाक्ये) खां पोई आयलि आर्तवार ते अवामी आवाज संडे मेगजीन में समूरनि कातिलनि जा नाला, संदुनि सर्परत जमायतुनि जा इशारा, डो॒हारियुनि जे लिकण लाई इसतमाल थियलि गो॒ठ जो नालो ऐं इलाईके जे बाअलसर तर्फां ऐडही गंदी शाजिस में सामिल थिअल जो साफ इजहार मोजोद हो। पर कहिं नह बुधो, कहि नह समझो, कहि भी कजहि करण नह चाहियो – सवाई कातिलनि जे जिन जो हिकु वडो॒ चिताउ मूं ताई अची पहूतो : “माफी वठ, तर्देद कर नह तह मूंहि डे॒अण लाई त्यार थी वञ”  अजु इन सानहे (वाक्ये) खे डेढ साल थी रहयो आहे, इन अर्से में न तह मां  का भी माफी न वरती , न ई का तर्देद कई आहे, पर इलाके जे वाअलसर खांदान सिंध जे टिन शहिदनि जे खुन में शामिल हूअण जो पाण ई इअं ई सबूद डि॒ञो जो समूरा खून राज॒वणियनि में लूडही वया !! मजलूम खांदान शहर ई छडे॒ हल्या वया !!! कातिलअ आजाद थी वया…!!! ऐं सानहे जे डि॒हिं थाणे जो घेराउ कंदड जमाअतयूं, महिनो अगु॒ आजाद थिअण ते छहनि मां चार जवाबदारनि अबेदअल्लाह भयइ, आबदालरओफ भयई,  अबेदअल्लाह भयई ऐं मोलवी अहसानु आल्ला जो शिकार्पूर में जेल बा॒हरां नह रूगो॒ शानदार अस्तकबाल (आझा) कयो वयो पर पोई खेनि हिक वडे॒ जलूस जे शकल में चक शहर पहूचण बैदि खेनि –टे काफिर—मारण ते “गाजीअ” जे लिकाब सा नवाजो वयो। पर सिंधी समाज वरी भी खामोश …!!!  सिंधीयत जे कातिलनि जी जमायत खे ई सिंध जे सभ खां वडी॒ “कोमी इतहाद” में वेहारे ।।सिंध बचाअण।। जी जदोजिहद जारी रखण जी दावेदारीअ में मसरूफ (मूझयलि) !!!

मां उन डिं॒हिं ताई नह कड॒हि घोटकी जिले जे कहि शहर में वयो होसि नह इन सजे॒ जिले में मूहिंजी कहिं भी हिंदु या मूसलिम सिंधी सां का “जरे जी वाट” ई हूई जे रिंकल की रड मूंहिंजो धयान छिकायो। मूं के लगो॒ : जो मां इन जूलम जे खिलाफ विडही सघां ऐं पहिंजे समाज खे भी जूलम खिलाफ विहण में शामिल करे वञा तह, शायदि 1947 में पहिंजे वड॒नि जे गलतियूंनि करे लखनि सिंधीयूंनि सां पहिंजनि तोडे परायनि जे जूलम जो को नंढो पलांद मूमकिनि बणजी वञे”। ऐं पोई तारिख जी हिक पलांद जी खवाईश , हिक ऐडहे वेडह जी शुरुआत साबित थे जहिं में कडहि मूं खां मिल्यलि “टू डे॒” गाडि॒ जो पई पुछयो वयो त , कहिं मूहिजे हवाले वडे॒ बंगले जी गो॒ल्हा पई कई !! पर मां हर बि गा॒ल्हयूं खे विसारे सिंध जी मजलूम अमड सुलक्षणी जूं ऐडहयूं अखयूं यादि रखयूं, जेके 24 फर्वरी 2012 ते अग॒वा थिअल पहिंजे पयारी नयाणी रिंकल कुमारी जे मिलण या नह मिली सघण जी हिक ई वक्त मिलिंदडन आसिरन ऐं खोफन करे कड॒हि उमिदि मा ब॒रिंदे बी डि॒ठयूं त, तूफान जे वर चड्हयलि डि॒ऐ जियां विसामिंदड भी!!! मां हिन वक्त ऐडहो अहसास कंदे ड॒की वञा थो, हिकडी मजलूम माउ जूं अखयूं , 18 ऐपरिल 2012 ते मूल्क जे अलयाई तरिन अदालत जी “अनेखे इंसाफ” बैदि पहिंजे जिगर जे टूकर खे किथे किथे ऐं किअं किअं डि॒सण जूं कोशिश कंदियूं हूंदयूं ..!? ऐं ऐडहयू हर कोशिश ऐं ऐडही हर कोशिश, हर खोशिश नामाक थी व़ञण ते पाण खे किअ परचाईदयूं हूदिंयूं ..?? संदुसि अखयूं केडहे वक्त सिंध जो सुकी ठोठ थी वयलि सिंधु दरयाउ बणजी वेंदयूं हूंदयूं ऐं केडहे वक्त गो॒डहनि जूं छोलयूं  हणिंदड महरान…!!! कहिं खें खबर.!!. कहिं खे अहसास..!!..कहिं खे जरूरत बि केडही ऐडहो अहसास करण जी ..! ?

इंतहाई थकल जहनि सां मां अजु॒ ई सोचयो पई तह शायदि मां केतरनि ई हफतनि खां आराम नाहयां करे सघयो । शाम खां देर रात ताईं आफिस ऐं पोई सुबुहि खां वठी डुक डुकां कड॒हि कहिं खे काअल करण जी कोशिश त, कडहिं कहिं खे समझाऐ सघण जा जतन !!! जहन बेचैनि, जस्म बेचैनि, सोच बेचेनि, पर झालत ऐं जनुन हथउ शिकस्त कबूल न करण जो अजमु, कजहि करे डे॒खारण जो अजम, चुप करे न वेहण जो अजम।

अजु॒ शाम ई, लंडनि खां पहिंजे देश घुमण आयलि निरंजन कुमार अवामी आवाज अचण वक्त चई रहयो हो त : “जड॒हि कमूनिस्ट पार्टी का कारकन हूंदाहवासिं त मथो फिरयलि हूंदो हो। जिंदगी ऐं मोत जी पर्वाह न हूंदी हईं पर छा हाणे पहिंजे मसस्द लाईं पहिजें जान की पर्वाह नह कंदड सिंध जा ड॒ह माण्हूं भी मोजोद आहिन। जे आहिनि त इहे बि॒यनि खे पाण डा॒हि छिके पठण की कौत जरूर पैदा करे वठींदा। मां त सिंध में फक्त हिक ई तबधीली महसूस कई आहे, सा आहे माण्हून में हब॒च जो इंतहाई हद ताई चोट चड्ही वञण,  इन करे जे कहिंमें को जजबो मोजूद आहे , त उन खे ऐडहे जजबे खे कौत बणाअण जो कमु पाण ई करे डे॒खारणो पवंदो “

“कोऐटा वाक्ये” जे रदेअमल में शहर जे समूरे अहम रसतनि ते डि॒हूं रात लगल धर्नो करे, रवाजी रसतनि खे छडण में मजबूर थी बाईक ते केतरनि ई अणडि॒ठलि घटियूंनि मां अचण बैदि, रात देर सां घर पहूचण ते, अव्हां लाई कजह लिखण लाई अञा वधीक जागण जी जरूरत करे, काफीअ जो कोप ठाहण बैदि, आंङरियूंनि ते पेन पकडे, लिखण जे कोशिश दवारां जहनि में वरि वरि इहो ई सवाल गर्दिश पयो करे “जिते मूं खे हिन वक्त सिंध जो नकशो चिटण जी जिमेवारी अदा करणी आहे त मां सिंधु खे केडही शकल में बयान कंदुसि ?  बिन महिननि जे बा॒र पेठ में हूअण जे बावजूद ऐं ऐडहे अगवा जो फर्यादी बी संदुसि सहूरो हूअण जे बावजूद, पसंद जो परणो कंदड कूंवारी छोकरी जाणायलि धणी भील जेडहो ?? समूरो जमिनि खुदाउनि खां आसिरो पले, निरि छत वारे मां इंसाफ जी आस लगा॒ईंदड धनीअ की अमड समझूअ जेडहो ? या वरि पहिजे इन नई दिल्लीअ वारे दोस्तअ जो, जेको पहिंजा गम विसारे इंतजार पयो करे तह  असां कड॒हि इन लायक थिंदासिं तह पहिंजे सिंध जा गो॒डहा उघी सघिंदासिं !! काश असां चक जे शहिदनि जे वारिसनि जे जहनि ऐं जिस्म जियां ई डि॒ठल डुख, खे भी वक्त सर डि॒ठो हूजे हा त, इन वाक्ये जे कजहि महिनि बैदि ई माथिले में हिकु वधीक वाक्यो थिअण खां सिंध बचाऐ पई सघे। हिक अमड सुलक्षणी खां पहिंजे जिगर जो टूकरो खसजण खे रोके पई सघयासिं !! रिंकल खे भी सुपरिम कोर्ट में ऐडहयूं रडयूं करण जी जरुरत कोन पेश अचे हां तह चौधरी- अव्हां सभ मूसलमानों मिल्यलि आहयो !!!, मूखे इंसाफ नाहे मिलणो !! किअं चयजे त हिन वक्त बी बे वाही फकत रिंकल आहे हिंन मूल्क जो इंसाफ न , इंसानियत न.. सिंध न सिंधीयत न रिंकल जे अगवा थिअण के हिक साल मखमत थिअण जे बावजूद, पहिंजी धीअ जो चहरो भी नह डि॒सी सघींदड अमड सुलक्षणी जे अख्यूंनि में डि॒सी सघजण जी हिमथ त मूं में भी नह आहे पर पोई भी जे मां सिंध जो नकशो चेटो तह इहो जरूर चक जो मजलूम सिंधी, माथिले की मजलूम माऊ, ऐं संदुसि अगवा थियलि गुलाम धीअ रिंकल, पंजनि सालनि जी मजलूम बा॒रडी वेंजंती या वरि समझो भील खा मूख्तलिफ न हूंदो। सिंध अमड जी ऐडही शकल खे डि॒सी, मा पाण खां इहे सवाल करण खां रही नथा सघा तह – छा मां सिंध जो ऐडहो ही मूसलमान सिंधी आहियां, जनि खे हिक जेडहो ई जलमु या जालिम जो बचाउ कंदड करार डेई। रिंकल रडयूं करे रही आहे त- अव्हा मूसलमान सभ मिल्यल आहियों ..”या”  मा सिंध जो ऐडहो हिकु सिंधी आहियां जेको पहिंजी धर्ती माउ ऐं इन के कहिं भी नाले में सडे॒ वेंदड औलाद सां ग॒ड॒ वेठल या बिही सघिंदड आहे !!?

मां लाला हुसेन जे उन गा॒ल्हि सां हिक राय आहियां त सिंध मसलब डु॒ख ई डु॒ख , पर छा सिंध जे फक्त डु॒खु हूअण करे, असां सिंध जो जिक्र करण, नालो खरण, ऐं नाले रखण ई छडे॒डिंदासिं ?? या सिंध जे सुरन ऐं दर्दन में हूअण जो अहसास खे पाण लाई चैलेंज समझींदे हिक ऐडहे सिंध अड॒ण जी शुरूआत कंदासिं जहिं जो नालो डु॒खु न हूजे जहिं जो तसविर धणी भील बणजी जे जहन खे डं॒भ न डे॒, जहिं जो अहसास असां खां फक्त इंसाफ आसमान ते ई मिलि सघण जी डा॒हि कडे॒। ऐडहे सिंध जहिं में का भी वेंजती, बा॒हर बो॒लयूं कडी॒ ठपिंदे कूडिं॒दे कहि भी तरफ खां कहि भी पासे वेंदे ऐडही आजाब जो शिकार थिअण खां बची सघे!! जहि खे नह हूअ समझी सघे नह ई बयान करे सघे!! असां खे सिंध जी ऐडही शकल किअ थी कबूल थी सघे। जेका रिंकल जियां मझलूमत ऐं  नाईंसाफी जी अलामत बणजी वञे। नह हरगिज न। असां खे पहिंजी अमडनि सूलक्षणयूं जो ऐडहयूं  ब॒हकिंदड अखयूं घर्जिन जेके पहिंजे जिगर जे ठूकरनि खे पहिंजे आडो॒ डि॒सी, खूश डि॒सी गौरव सा भरजी वञिनि पर गो॒डहनि सा न। असां सिंध जो ऐडहो जी ऐडही तसविर किअं था कबूल करे सघयूं । जहि सिंध में पहिंजे बा॒रडीअ ते नालो रखण सा ई समझायो वञे  “ इअं न कर पहिजी बारडी जो नसिबु खराब न कर!!! खेसि डु॒ख जो अहञाण न ब॒णाई!!  छो तह सिंध मतलब “डू॒ख ई डु॒ख” !!!

मूं खे सिंध जो ऐडहो तसविर ऐं ऐडही शकल कहि भी रित कबूल नाहे। मां ऐडही तसविर खां डि॒जण बजाई विडहण लाई, पहिंजी बा॒रडीअ खे सत साल अगु॒ ई “सिंधु” नालो ड॒ई चको आहियां ऐं नथो चाहयां मसकबिल जो को भी मसवरु,  कहि भी रित,  सिंध जो ऐडहो ई तसविर चटे, जेका मां अजु॒ पहिंजे अख्यूंनि सा डि॒सी रहयो आहियां ! जेका कहि भी हाल में इअं ई चिटण न पर इन के बदलाअण थो चाहियां। जे असां सभिनि गड॒जी सिंध जे “निभागे” वारे तसविर “भाग” में बदलाऐ न डे॒खारो त डु॒ख ई डु॒ख नह फक्त वेजती ऐं रिंकल जो ई नसिब बणायलि नाहे रहणो,  डु॒ख ई डु॒ख “मूहिंजे सिंध” मूक्दर में ई नाहिनि अचणा !!! डु॒ख अव्हां जेडहनि सिंधीयूंनि जो बी विछो किन छडिं॒दा !!!….छडि॒यूंनि भी किअं ? जड॒हिं सिंध धर्ती डु॒ख जो महफूम बणयलि हूजे!!  पाण ई डु॒ख बणयलि हूजे..!! सदियूंनि जो डु॒ख…!!.

रिंकल जूं मिंथां

सामान्य

सुधीर मौर्य हिंदी भाषा जो कवि तोडे लेखक रहयो आहे। हेल ताईं तंदुसि जा ड॒हि खनु किबात शाई थी चुका आहिनि। जा खां रिंकल तोडे अगवा थियलि सिंधी हिंदु नयाणयूं जे हिमायत में ऐतजात हिंदुस्तान में शुरु थिया हूं हिंन जाखडे में बराबर जो हिमायति रहयो आहे।

sudheer

जईफाउनि जे आलमी डि॒हिं ते हिंदी कवि तोडे लेखक सुधीर मौर्य को रिंकल जे नाऊं कविता ।

रिंकल जूं मिंथां

gzala shah

अजु॒ जी राति पिणि

कारी ई निकती

भिंभ कारी उंदाहि

छो लिखी डि॒नुइ

मूहिंजा साईं

नसिब में मूहिंजे

आऊं त बु॒धो हो

उभ जी भूंई ते

सरहदयूं न हूंदियूं आहिनि

उते को

हिंदु या मोमिनु नाहे

उते को

सिंधु या हिंदु नाहे

तूं मथे आहिं

इन रिवाजन खां

आखिर तूं

उभ वारो आहिं

पर वरि छा थयो

जे मूहिंजो सडु॒

तुहिंजे कनन ताईं

दसतक न डे॒ई सघयो

अडे मूंहिंजा साईं

अडे मूंहिंजा इशवर

आऊं अञा भी

तोखे

उभ वारो ई लेखिंदी आहियां

पर तूं छो

मूंखे

भूंई जी

निधिकणि कोन समझुई

अडे उभ वारा

नाउं यादि आथी न मूंहिंजो

आऊं रिंकल कुमारी आहियां

या वरि

तूं पिणि

मूंहिजो कोई ब॒यो नाऊं

रखि छड॒यो अथी

कवि – सुधीर मौर्य सुधीर